HomeTechnology In HindiComputerComputer क्या है ? - कंप्यूटर का इतिहास, प्रकार, जनरेशन ।

Computer क्या है ? – कंप्यूटर का इतिहास, प्रकार, जनरेशन ।

कंप्यूटर क्या है | What is Computer ?

computer kya hota hai ?

 

Computer एक electronic device है जिसके मदद से हम अपने बहुत सारे काम आसानी से कर सकते हैं।

इसका इस्तेमाल हम calculations से लेकर game खेलने , movie देखने, letter लिखने इत्यादि में कर सकते है।

यह device इसको दिए गए निर्देश के अनुसार काम पूरा करती है। आज की दुनिया में computer का इस्तेमाल हर एक क्षेत्र में हो रहा है। पढाई से लेकर मनोरंजन तक इसका इस्तेमाल किया जाता है।

कंप्यूटर कैसे काम करता है | How Does Computer Work?

Computer एक ऐसा device है जो हमारे द्वारा दिए गए निर्देश को डाटा के रूप में input के रूप में स्वीकारता है, फिर उस निर्देश को process करता है और फिर output के रूप  में हमें result देता है ।

Computer Kaise Kaam Karta Hai ?

Input- कंप्यूटर जो जानकारी हमसे लेता है उसे हम इनपुट या इंस्ट्रक्शंस कहते हैं।

Processing- इनपुट लेने के बाद कंप्यूटर इस डाटा को प्रोसेस करता है। प्रोसेसिंग यानी कि हमारे द्वारा दिए गए इनपुट या इंस्ट्रक्शंस के अनुसार काम करना।

Output- कंप्यूटर हमारे द्वारा दिए गए डाटा को प्रोसेस करने के बाद उसके रिजल्ट को हमें शो करता है जिसे हम आउटपुट के नाम से जानते हैं।

चूंकि यह एक electronic device है तो यह हमारी भाषा नहीं समझ सकता । यह दो ही बात समझता है – On और Off । इस On और Off को यह 1 और 0 के रूप में समझता है । इस 1 और 0 की भाषा को हम Machine Language कहते हैं ।

कंप्यूटर का इतिहास | History Of Computer

सन् 1822 में Charles Babbage ने दुनिया के पहले कंप्यूटर का अविष्कार किया था जिसका नाम Differential Engine था । वह एक British Mathematician थे जिनको Father of Computer के नाम से भी जाना जाता है ।

Abacus

Abacus दुनिया का पहला कंप्यूटर है । इसकी मदद से आज भी mathematical calculations किये जाते हैं । Abacus जिसे की हिंदी में गिनतारा के नाम से भी जाना जाता है एक ऐसा उपकरण है जिसके मदद से हम जोड़, घटाव, गुना, भाग जैसे सवालो का हल निकाल सकते हैं।

इसका इस्तेमाल प्राचीन यूरोप, चाइना, रूस जैसी जगहों पर Hindu-Arabic Numerical System के आने से पहले हुआ करता था । अबेकस के मूल उत्पत्ति के बारे तो अभी तक सही से कुछ कहा नहीं जा सकता है।

आज के Modern Abacus बांस के फ्रेम पर तैयार किये जाते हैं जिसपर की मोतियाँ लगी होती है गिनती के लिए पर पुराने ज़माने में यह मूल रूप से लकड़ी, पत्थर या धातु (metal) के फ्रेम पर पत्थर या सेम को मोती की जगह इस्तेमाल किया करते थे।

Abacus के बाद जैसे जैसे technology में वृद्धि होने लगी और भी नए नए computing devices का अविष्कार होने लगा जिनमे से Napier’s Bones , Pascaline , Leibnitz Wheel , Difference Engine ,Analytical Engine , Tabulating Machine , Differential Analyzer और Mark I प्रमुख रूप से प्रसिद्ध हैं। इन सभी के बारे मैं आपको अपने दुसरे article में बताउन्गी।

पर वही अगर हम डिजिटल कंप्यूटर के बात करें तो पहला डिजिटल कंप्यूटर ENIAC था। यह दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान बनाया गया था। इसकी मदद से  कैलकुलेशंस किए जाते थे।

ENIAC

ENIAC और इसी की तरह के और शुरुआती दौर के कंप्यूटर vaccum tubes का इस्तेमाल करते थे। वेक्यूम ट्यूब के इस्तेमाल के वजह से इनका आकार बहुत ही ज्यादा बड़ा होता था जिस वजह से इनका इस्तेमाल बहुत कम ही जगह पर हो पाता था ।

बाद में जैसे-जैसे कंप्यूटर के क्षेत्र में वृद्धि हुई और जैसे-जैसे कंप्यूटर के size कम हुए और यह हमारे बजट में आने लगे इसका इस्तेमाल बाकी क्षेत्रों में भी होने लगा जो कि आज हम देख सकते हैं।

जनरेशन ऑफ कंप्यूटर | Generation of Computers

Generation of computer in hindi
Source-kmacims

Generations की बात करे तो हम सुरुआत से अभी तक के computers को कुल 5 generations  में बात सकते हैं। सन् 1946 मैं गिनती के लिए electronic pathways – Circuits का अविष्कार किया गया था। हर नए generation के साथ circuits का आकर छोटा होता गया और ये पहले वाले से ज्यादा advanced भी होते गए।

छोटे आकर की मदद से एक ओर जहाँ computer की memory बढ़ने में हम सफल हुए वही दूसरी ओर computers की speed में भी वृद्धि हुई ।

First Generation Computers (1946-1959):

ये अभी की तुलना में बहु के रूप में त ही ज्यादा बड़े, धीमे और बहुत ही ज्यादा मेहेंगे भी थे । इन computers में Vaccum Tubes का इस्तेमाल CPU और Memory के basic component के रूप में हुआ करता था ।

कुछ मशहूर 1st Generation Computers हैं:

ENIAC,  EDVAC, UNIVACI, इत्यादि।

Second Generation Computers (1959-1965):

यह दौर था Transistor Computers का । Transistors के इस्तेमाल से यह 1st Generation Computers के मुकाबले तेज़, सस्ते और कम बिजली की खपत करते थे। इस दौर में Magnetic Cores का इस्तेम्मल Primary Memory  और Magnetic Disks और Tapes का इस्तेमाल Secondary memory के रूप में हुआ करता था ।

इन computers में Assembly Language और Programming Languages जैसे कि COBOL और FORTRAN, और Batch Processing और Multiprocessing OS का इस्तेमाल हुआ करता था ।

कुछ मशहूर 2nd Generation Computers हैं:

IBM 1620, CDC 1604, UNIVAC 1108 इत्यादि।

Third Generation Computers (1965-1971):

इस जनरेशन के कंप्यूटरों में Integrated circuits यानी ICs का इस्तेमाल होता था  इन इंटीग्रेटेड सर्किट ने ट्रांसिस्टर्स की जगह ले ली थी। ICs का invention Jack Kilby द्वारा किया गया था। इस विकास के साथ-साथ कंप्यूटरों का साइज छोटा और कार्य में और कुशल हो गए थे।

इस जनरेशन में Remote Processing, Time Sharing तथा Multi Operating Systemका उपयोग किया जाता था इसके साथ साथ High Level Languages जैसे कि COBOL, 1, BASIC इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता था।

कुछ मशहूर third generation के कंप्यूटर हैं:

IBM-360 Series, Honeywell-6000 series, TDC-316, इत्यादि।

Fourth Generation Computers (1971-1980):

इस जनरेशन के कंप्यूटर में VLSI Circuits का इस्तेमाल किया जाता था। इस सर्किट के इस्तेमाल ने Micro Computers को संभव बना दिया था। इस जनरेशन के कंप्यूटर बहुत ही powerful, compact और affordable थे।

इसी generation के साथ साथ पर्सनल कंप्यूटर का इस्तेमाल शुरू हुआ इस जनरेशन में Time Sharing, Real Time Network और Distributed Operating System का इस्तेमाल होता था इनके साथ साथ ही C, C++, जैसे High Level Languages का भी इस्तेमाल शुरू हो गया था।

कुछ मशहूर 4th generation के कंप्यूटर हैं:

DEC 10, STAR 1000, PDP 11,इत्यादि।

Fifth Generation Computers (1980-Now):

 

यह जेनरेशन AI सॉफ्टवेयर पर dependent है। इस generation में High Level Languages जैसे कि C, C++, Java, .Net आदि का उपयोग किया जाता है।

इस जनरेशन के कंप्यूटर यूजर फ्रेंडली (User Friendly) होने के साथ-साथ बहुत ही ज्यादा powerful और cheap rates पर भी अवेलेबल हैं।

कुछ मशहूर 5th generation के कंप्यूटर हैं:

Desktop, Laptop, Notebook, Chromebook, इत्यादि।

आज का दौर | Parts Of Computer

आज के दौर की कंप्यूटर की बात करें तो जितने भी components हम पुराने जमाने में देखते थे उनमें से शायद ही किन्ही का आज इस्तेमाल होता है।

हम ऐसे ही कुछ जरूरी components के बारे बात करेंगे जिनके बगैर एक basic कंप्यूटर काम नहीं कर सकता।

1. प्रोसेसर | Processor

प्रोसेसर वा part है जो कि software और hardware के द्वारा दिए गए instructions को पूरा करता है।

प्रोसेसर यानी कि सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) को हम कंप्यूटर का दिमाग (Brain of Computer) कह सकते हैं। सीपीयू (CPU)का मुख्य काम इनपुट लेना और उस इनपुट के आधार पर हमें आउटपुट देना होता है।

2. मेमोरी | Memory

कंप्यूटर की मेमोरी एक ऐसी physical device है जो हमारे द्वारा दिए गए information को temporarily या permanently स्टोर करती है। कंप्यूटर में मेमोरी दो प्रकार की होती है Primary Memory और Secondary Memory। इन दोनों के अंतर के बारे हम अगले ब्लॉग में विस्तार से जानेंगे।

3. मदरबोर्ड | Motherboard

मदरबोर्ड का काम पावर एलोकेट (Power Allocation)  करना होता है और यह CPU, RAM और कंप्यूटर के बाकी Hardware components को communicate करने में मदद करता है।

4. स्टोरेज डिवाइस | Storage Device

एक स्टोरेज डिवाइस एक ऐसा डिवाइस होता है जोकि इंफॉर्मेशन को टेंपरेरिली या परमानेंटली स्टोर कर सकता है जैसा की मैंने यही बात प्राइमरी स्टोरेज यानी कि memory के बारे में भी कही था पर यह दोनों बहुत ही ज्यादा अलग होते हैं।

एक स्टोरेज डिवाइस के बगैर कंप्यूटर हमारे द्वारा दिए गए डेटा को save यानी कि याद नहीं रख सकता है हालांकि काम जरूर करेगा पर हमारे द्वारा दिए गए इंफॉर्मेशन(information) इस में save नहीं हो पाएंगे।

इन सभी पार्ट्स के अलावा हमें इनपुट डिवाइसेज (Input Devices) की भी जरूरत पड़ेगी निर्देश देने के लिए और एक आउटपुट डिवाइस (Output Device) की भी रिजल्ट देखने के लिए।

इन सारी बातों को जानने के बाद आप यह तो समझ ही गए होंगे कि एक कंप्यूटर हमारे जिंदगी में आज कितना बड़ा Role Play करता है। इसके बिना लगभग हमारे सारे काम अधूरे रह जाएंगे।

अगले आर्टिकल में मैं आपको आज के कंप्यूटर यानी कि 5th जनरेशन के कंप्यूटर जो आज हम इस्तेमाल करते हैं उसके उनके बारे बताऊंगी आशा करती हो कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

Kavitahttp://www.technologydunia.in
Kavita is a tech enthusiast. She is the co-founder and Content Strategist of Technologydunia.in . She is also an Instagram Food Blogger. She is a foodie by day and writer by night. You can follow her food blog on Instagram @thatfoodiefreak .
RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments